चुनाव आयोग के फैसले का हम स्वागत करते हैं : वशिष्ठ नारायण सिंह

पटना । जदयू के प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद श्री वशिष्ठ नारायण सिंह ने बयान जारी कर कहा कि आज चुनाव आयोग ने चुनाव के तिथियों की घोषणा कर दी है । अगले महीने के 28 अक्टूबर , 3 नवंबर और 7 नवंबर को तीन चरणों में चुनाव सम्पन्न होने हैं । ऐसे में चुनाव आयोग के इस फैसले का हम स्वागत करते हैं । हम उम्मीद करते हैं कि बिहार के लोग इस आपद परिस्थिति में लोकतंत्र के इस जरूरी उत्सव को बेहद सावधानी और उत्साह से मनाएंगे ।

कोरोना के मद्देनजर चुनाव आयोग ने जो दिशा निर्देश जारी किए हैं , हमारी कोशिश होगी कि हम अक्षरसः उन नियमों का पालन कर चुनाव में उतरें । हम और हमारी पार्टी विधानसभा चुनाव में उतरने के लिए पूरी तरह तैयार हैं । वर्चुअल स्पेस में चुनावी प्रचार प्रसार के तमाम माध्यमों को हमने नया स्वरूप विस्तार दिया है । कुछ ही दिनों पूर्व नीतीश कुमार के व्यवस्थित और दीर्घ भाषण ने निश्चय संवाद रैली को ऐतिहासिक बना दिया है । निश्चय – संवाद में बिहार की आम जनता की भारी संख्या में भागीदारी ही हमारा आत्मविश्वास है । ऐसा पहली बार हुआ कि तकनीकी माध्यमों के जरिए हमने शहर से लेकर सुदूर के लाखों लोगों से संवाद स्थापित किया गया और आगे के विविध चुनावी कार्यक्रमों में भी करते रहेंगे ।

आज कोरोना – महामारी से पूरी दुनिया जूझ रही है । बिहार भी इससे अछूता नहीं है । आज ऐसे विकट समय में भी सरकार के बेहतर मैनेजमेंट के कारण जनता में बीमारी से लड़ने का आत्मविश्वास है । नीतीश जी ने बारम्बार यह दुहराया है कि सरकारी – कोष पर पहला अधिकार आपदा पीड़ितों का हैं । यह सेवा – भाव ही हमारी सरकार को खास बनाता है । प्रवासी पंद्रह लाख लोगों को कोरेंटाइन सेंटर में रखकर जिस तरह की सेवा की गई , वह बेमिशाल है ऐसी व्यवस्था शायद ही किसी अन्य राज्य में हुई हो । आज कोरोना रिकवरी रेट 88 फीसदी से अधिक है , यह बेहद संतोषजनक है । कोरोना के साथ साथ भयंकर बाढ़ की विभीषिका ने भी बिहार को इस बरस तबाह किया है बाढ़ पीड़ितों के लिए हर तरह की व्यवस्था सरकार में तुरंत किये । राहत सामग्री बँटयाने से लेकर भोजन – शिविर लगाने तक में नीतीश जी के नेतृत्व में बिहार सरकार ने बेजोड़ काम किया है ।

सातनिश्चय , जल – जीवन – हरियाली , मानव – श्रृंखला , महिला आरक्षण , शराबबंदी , दहेजबन्दी , बाल – विवाह निषेधक कानून आदि यह सबकुछ इसी सरकार ने लागू किया है । लाखों की संख्या में अलग अलग विभागों में नौकरी से लेकर पुल – पुलिया , सड़क निर्माण , बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था सरकार की बीते वर्षों की उपलब्धियां रही है । सरकार की कोशिश रही है कि समाज के हर वर्ग के अंतिम जन तक अपनी उपस्थिति दर्ज करे । केवल हर घर बिजली पहुंचने भर से शिक्षा से वंचित लोगों के बच्चे भी पढ़ने लिखने लगे हैं । उनके नागरिक – जीवन स्तर में व्यापक सुधार हुआ है ।

एनडीए का सपना है कि निरंतर नए बिहार को गढ़ना है । प्रधानमंत्री जी ने बिहार के लिए जो पैकेज और घोषणाएं की हैं , वह भी कम प्रशंसनीय नहीं है । बिहार को और अधिक विकसित बनाने में केंद्र सरकार का यह सहयोग मील का पत्थर साबित होगा । जदयू सेवा को लक्ष्य मानकर राजनीति करने वाली पार्टी है । हमारे पास विजन है , विकास का मॉडल है , रणनीति है । जिसपर अमलकर हम बिहार को विकसित समुन्नत बनाने में लगे हुए हैं । जो लोग बिना विजन , बिना अनुशासन और बिना मॉडल के राजनीति कर रहे हैं , उनकी दिशा भटकी हुई है । उन्हें लक्ष्य का कोई ज्ञान ही नहीं है । वे लोग नकारात्मक राजनीति के पैरवीकार लोग हैं , उनकी चिंता में बिहार की जनता कहीं नहीं है । उनके आचरण और व्यवहार में अनुभवहीनता , अमर्यादा साफ तौर पर झलकता है ।

नीतीश कुमार ने 15 वर्ष बनाम 15 वर्ष की जो तस्वीर आज बिहारियों के सामने रख दी है , उस तस्वीर से हमारे विपक्षियों का परेशान होना स्वाभाविक है । हमने जंगलराज के दौर को भी देखा है । अपहरण , मर्डर , रंगदारी – टैक्स और गुंडागर्दी वाले बिहार को हमने नए सिरे से गढ़ा है । जदयू का यही आत्मविश्वास है । ‘ न्याय के साथ विकास ‘ का संकल्प ही हमारा मूलमंत्र है , आगे भी हम इसी सूत्र के साथ आगे बढ़ेंगे । आगे पर्व भी है और चुनाव भी । हम दोनों को दिल खोलकर मनाएंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0