पटना पुलिस के बड़ी लापरवाही सामने आई है,हत्याकांड के मामले में आवेदन किसी और के नाम से और विश्वासभाजन के हस्ताक्षर में कोई और के नाम बिना पढ़े मामला दर्ज

पटना । पटना पुलिस की बड़ी लापरवाही मामला सामने आया है।जो पटना से सटे मनेर थाने में अजीबोगरीब मामला सामने आया है। बीते दिनों हत्या मामले में एक प्राथमिकी दर्ज किया गया। जिसमें आवेदक का हस्ताक्षर अजय कुमार का था। जिसपर थानांध्यक्ष ने केस की प्राथमिकी दर्ज करते हुए अनुसंधान का जिम्मा एसआई राम कुमार पाल को सौंप दिया। जबकि आवेदन में दूसरे व्यक्ति का हस्ताक्षर का मामला आया है। जिससे पटना पुलिस की लापरवाही कह सकते हैं। बताया जाता है कि बीते 3 दिन पहले मनेर थाना क्षेत्र के ब्रह्मचारी में मामूली विवाद में प्रेमधर और भोला राय के बीच में रोड़ेबाजी के दौरान नंद कुमार की मौत हो गई थी जिसमें प्रेमधर राय का पुत्र विश्वनाथ राय की ओर से मनेर थाना में लिखित आवेदन देकर प्राथमिकी दर्ज कराई गई। जिसका कांड संख्या 607/20 दर्ज है। दर्ज प्राथमिकी में लिखित आवेदन में नीचे में विश्वासभाजन के हस्ताक्षर में अजय कुमार पाया गया। जिसमें मनेर थाना के लापरवाही सामने आया है अब सवाल यह उठता है कि बगैर आवेदन पढ़े हुए थानेदार प्राथमिकी कैसे दर्ज की क्या थानेदार लोगे आवेदन पढ़े हुए f.i.r. रजिस्टर करते हैं। अब सवाल यह उठता है कि इस मामले में वरीय अधिकारी ने थानेदार पर क्या कार्रवाई करते हैं यह तो आने वाला समय ही बताएगा।मिली जानकारी के मुताबिक विश्वनाथ राय और अजय कुमार दोनों एक ही आदमी है।लेकिन आवेदन में ऐसा चर्चा कहि नही किया गया।जो मनेर पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आया है।लेकिन इस तरह का मामला आने पर मनेर मैं तरह-तरह की चर्चाएं चल रही है।
फिलहाल इस संबंध में मनेर थानाध्यक्ष और वरीय अधिकारी से फोन के द्वारा सम्पर्क करने की कोशिश कि तो संपर्क नही हो पाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0