श्री श्री 108 बाबा तारकेश्वर महादेव मंदिर उल्टा स्थान तारापुर में बाबा का शिवलिंग 3 महीने रहता हैं जलमग्न

श्री श्री 108 बाबा तारकेश्वर: मुंगेर जिला के तारापुर में अवस्थित है

मुंगेर । श्रीश्री 108 बाबा तारकेश्वरनाथ उल्टानाथ महादेव मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र ¨बदु बना हुआ है। यहां सालों भर श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। सावन में यहां शिव भक्तों की भीड़ उमड़ती है। वहीं, इस मंदिर में दूर दूर से लोग विवाह करने पहुंचते हैं।

मंदिर की स्थापना 750 ई. में पालवंश के राजा ने किया था। जीर्णोद्धार के क्रम में एक शिलालेख से इसकी पुष्टि हुई। जानकर बताते हैं कि अभी भी कुछ शीला ऐसे हैं, जो बाबाधाम के मंदिर में लगे पत्थर से मिलते जुलते हैं। 60 के दशक में उल्टानाथ महादेव मंदिर जीर्ण शीर्ण हो गया था। उस समय तांत्रिक संत मौनी बाबा ने कहा था कि एक मौनी बाबा आएंगे और इसका जीर्णोद्धार कराएंगे। उनकी भविष्यवाणी सही निकली एवं स्व मौनी बाबा की प्रेरणा से उनके भक्तों ने इसे विशाल रूप दिया।

मुंगेर से वाहन से तारापुर उल्टानाथ महादेव मंदिर पहुंचा जा सकता है। यह सुलतानगंज देवघर मुख्य पथ पर ही स्थित है। यहां श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए धर्मशाला भी बना हुआ है।

मंदिर में सालों भर भागवत कथा, अष्टयाम, रामधुन जैसे कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। सावन महीना के सभी दिन विशेष पूजन होता है। सोमवार को श्रृंगार पूजन देखते ही बनता है।

महामारी संकट करोना के समय में मीडिया गौतम झा महादेव के मंदिर पहुंचे पहुंचते ही अद्भुत नजारा देखने के लिए मिला महादेव का शिवलिंग जल से डूबा हुआ वही फिर मंदिर के पुजारी राम बाबाकेसाथ मंदिर संस्था के युवा संजय पोद्दार से पूछे बताएं साल में 3 माह सावन भादो आसींद बाबा जल मग्न रहते हैं। यह आप रूपी जल आते हैं इस जल का खासियत है जल कभी भी गंदा नहीं होता इस जलसे शिव भक्त बहुत आनंद को मिलता है।

रिपोर्ट – विवेक कुमार यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0