बिहार में नदियां रिकॉर्ड स्तर पर, पटना में गंगा लाल निशान से सिर्फ 1.5 मीटर नीचे

पटना : नेपाल में बारिश ने रफ्तार पकड़ी तो रविवार को सूबे की सभी प्रमुख नदियां इस साल के अपने सर्वोच्च स्तर पर रहीं। दस नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर है। कोसी सुपौल, सहरसा, खगड़िया और भागलपुर में, बागमती सीतामढ़ी के ढेंग, सोनाखान, डुब्बाधार, चंदौती और मुजफ्फरपुर के बेनिबाद में खतरे के निशान के ऊपर है। कमला बलान मधुबनी के जयनगर और झंझारपुर में, ललबकिया पूर्वी चंपारण के गोवाबाड़ी में, अधवारा सीतामढ़ी के सुन्दरपुर में, महानंदा पूर्णिया, कटिहार और किशनगंज में, घाघरा सीवान में लाल निशान के ऊपर है। गंगा का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। पटना में भी लगातार बढ़ रहा है। अभी पटना में यह खतरे के निशान से 1.58 सेंटीमीटर नीचे है, सोमवार की सुबह तक यह डेढ़ मीटर ही नीचे रह जाएगी। दीघा में गंगा खतरे के निशान से 2.51 मीटर नीचे थी, जबकि गांधीघाट पर 1.58 मीटर और हाथीदह में 1.89 मीटर नीचे थी।

शिवहर में तटबंध टूटा, एनएच पर भी चढ़ा पानी

  • शिवहर के बेलवा में डैम निर्माण कार्य को लेकर बनाया गया सुरक्षात्मक तटबंध ध्वस्त
  • सीतामढ़ी से सुरसंड के बीच एनएच पर चढ़ा बाढ़ का पानी
  • दरभंगा में पांच प्रखंड के कई गांवों में बाढ़ का पानी घुसा, फसलें डूब गई हैं।
  • सुपौल में 6 प्रखंड के 100 से अधिक गांवाें में फैला पानी।
  • उत्तर बिहार में 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट

उत्तर बिहार के तराई वाले जिलों के कई भागों में रविवार को भी भारी से भारी बारिश हुई। मौसम विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक दिनेश कुमार भारती ने बताया कि 24 घंटों में भी कई जिलों में भारी बारिश और वज्रपात की संभावना है। पटना में हल्की से मध्यम बारिश होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Shares