पटना में 8 जून से धार्मिक स्थलों को खोलने की हो रही है तैयारी, महावीर मंदिर में दर्शन के लिए पहले करनी होगी ऑनलाइन बुकिंग

वैश्विक महामारी कोरोना के कारण हुए लाॅक डाउन के पांचवे चरण यानी अनलॉक-1 में कुछ छूट मिली है। आपको बता देगी केंद्र सरकार ने अनलॉक-1 के तहत सभी धार्मिक स्थलों को आठ जून से खोलने की अनुमति दे दी है। इसके बाद पटना के मंदिरों के साथ साथ दूसरे धर्मस्थलों को भी खोलने की तैयारी शुरू कर दी गयी है। लगभग ढ़ाई महीने बाद खुलने जा रहे धार्मिक स्थलों में प्रवेश के लिए नियम बनाये जा रहे हैं। पटना के प्रसिद्ध महावीर मंदिर में पूजा-अर्चना के लिए श्रद्धालुओं को पहले से ऑनलाइन बुकिंग करानी होगी। पटना के मंदिरों में मास्क लगाकर आने वाले श्रद्धालुओं को ही एंट्री मिलेगी वो भी बिना पूजा सामग्री, फूल माला, प्रसाद के।

बिहार की राजधानी में पटना जंक्शन स्थित प्रसिद्ध महावीर मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए 8 जून से खोल दिया जाएगा। परंतु मंदिर में पूजा-अर्चना के लिए ऑनलाइन बुकिंग करानी होगी। मंदिर में आठ जून के बाद ऑनलाइन बुकिंग से ही प्रवेश मिलेगा महावीर मंदिर प्रबंधन ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। महावीर मंदिर न्यास समिति के सचिव आचार्य किशोर कुणाल ने बताया कि आठ जून के बाद श्रद्धालुओं को मंदिर में पूजा करने के लिए पहले से ही ऑनलाइन बुकिंग करानी होगी।मंदिर की वेबसाइट पर बुकिंग कराते समय ही उन्हें ये जानकारी दे दी जायेगी कि उनके मंदिर में प्रवेश का समय कब का है। महावीर मंदिर में मंगलवार को सबसे ज्यादा भीड होती है लिहाजा मंगलवार के लिए खास इंतजाम होंगे।

कोरोना वायरस संक्रमण के संकट में श्रद्धालुओं को संक्रमण से बचाने के लिए महावीर मंदिर में दूसरी व्यवस्था भी की जा रही है। मंदिर में पूजा के लिए आने वाले भक्तों के नाम के आधार पर दिन तय होगा। इसके लिए अल्फाबेट को आधार बनाया जाएगा। यानि पूजा के लिए आने वाले श्रद्धालु का नाम जिस अक्षर से शुरू हो रहा होगा उसके आधार पर दिन तय होगा। हालांकि अभी न्यास तय नहीं कर पाया है कि किस नाम के व्यक्ति को किस दिन प्रवेश दिया जाएगा। मंदिर खुलने में अभी 7 दिन बाकी है लिहाजा आठ जून से पहले सारे नियम कायदे तय कर लिये जायेंगे। मंदिर प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि भक्तों को शारीरिक दूरी का ख्याल रखना होगा। चेहरे को मास्क या गमछा से ढ़क कर ही मंदिर परिसर में प्रवेश करना होगा।

वहीं शक्तिपीठ बड़ी पटन देवी को भी 8 जून से श्रद्धालुओं को लिए खोल दिया जायेगा। मंदिर के महंत विजय शंकर गिरि ने बताया कि श्रद्धालु मास्क पहनकर ही बड़ी पटनदेवी में भगवती के दर्शन के लिए प्रवेश कर सकेंगे।उन्हें अपने हाथों को सैनिटाइज करने के बाद ही मंदिर में प्रवेश करने दिया जायेगा। मंदिर परिसर में शारीरिक दूरी का पालन कराने के लिए सफेद गोले बनवाए जाएंगे।

बडी पटनदेवी मंदिर के महंत ने बताया कि भक्तों को एक साथ मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया जायेगा। एक बार में 5 लोगों को ही लाइन से मंदिर में प्रवेश करने दिया जाएगा। भक्त खुद भगवती पर फूल चढ़ायेंगे और फिर मंदिर प्रशासन की ओर से तय किये गये स्थल पर नारियल नारियल फोड़ेंगे। मंदिर में भीड़ न हो इसके लिए दो निकास द्वार बनाये जायेंगे।

और इसके साथ ही सिखों के प्रमुख धर्मस्थल तख्त श्री हरिमंदिर जी में हर हाल में शारीरिक दूरी का पालन किया जाएगा। गुरूद्वारा प्रबंधक समिति के सचिव सरदार महेंद्र सिंह छाबड़ा ने बताया कि तख्त साहिब के प्रवेश द्वार के साथ संगत के हाथों को सैनिटाइज कराया जाएगा। शारीरिक दूरी का पालन कराने के लिए एक बार में 10 लोगों को ही लाइन में लगकर गुरूद्वारे में प्रवेश करने दिया जायेगा। लंगर हॉल में संगतों के बीच शारीरिक दूरी बनाये रखा जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0