हत्या के 10 दिन बाद भी नामजद आरोपी को पकड़ने में असफल रही पुलिस,मृतक के परिजनों ने पुलिस पर लगाया हत्यारोपी से मिलीभगत का आरोप।

Kaimur : कैमूर जिला अंतर्गत मोहनियाँ थाना क्षेत्र में 15 जुलाई 2020 को हुए हत्याकांड में घटना के 10 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस अब तक नामजद आरोपी को गिरफ्तार करने में असफल रही है।मृतक के परिजनों ने इस मामले में आरोपी और पुलिस के बीच सांठगांठ का आरोप लगाया है।मृतक के परिजनों ने बताया कि हत्यारोपी खुलेआम गांव में घूम रहे हैं।साथ ही साथ हत्यारोपी द्वारा उन लोगों को भी जान से मारने की धमकी दी जा रही है।मृतक के परिजन बार-बार मोहनियाँ थाना जा रहे हैं, परन्तु थाने से उन्हें एक ही जवाब मिलता है कि पुलिस अपना काम कर रही है।अब भगवान जाने आखिर पुलिस कौन सा काम कर रही है।जबकि हत्यारोपी खुलेआम घूम रहे हैं।बताते चलें कि बीते 15 जुलाई की शाम मोहनियाँ थाना क्षेत्र के कटराकला गाँव निवासी स्व हरदेव शर्मा के पुत्र ई रिक्शा चालक लक्ष्मण शर्मा और उसी गाँव के रहने वाले हरिद्वार प्रजापति के पुत्र ऑटो चालक पंकज प्रजापति के बीच पैसेंजर को बैठाने को लेकर झड़प हो गई।लक्ष्मण शर्मा ने अपने भाई मुन्ना शर्मा के साथ मिलकर पंकज प्रजापति की जमकर पिटाई कर दी।पंकज प्रजापति घायल हो गए और उन्होंने इसकी सूचना अपने भाई महेंद्र प्रजापति को दी।घटना की जानकारी मिलते ही महेंद्र प्रजापति अपने भाई को देखने घर से निकल गए।रास्ते में ही लक्ष्मण शर्मा और मुन्ना शर्मा से उनकी मुलाकात हो गई और लक्ष्मण शर्मा और मुन्ना शर्मा ने मिलकर महेंद्र प्रजापति की भी बुरी तरह पिटाई कर दी।मारपीट से महेंद्र प्रजापति बुरी तरह घायल हो गए।उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया,जहां इलाज के दौरान महेंद्र प्रजापति की मौत हो गई।हत्यारोपी की गिरफ्तारी नहीं होने से ग्रामीणों में काफी रोष है।मामले में पुलिस की उदासीनता सवालों के घेरे में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0