PMCH और पटना एम्‍स के बीच का सफर होगा आसान, सिर्फ 20 मिनट में PMCH से पहुंचे सकेंगे एम्स, जानें रुट

Patna : बीते कुछ सालों में बिहार में सड़क निर्माण में काफी तेजी आई है। नीतीश के सरकार में ग्रामीण सड़के दुरुस्‍त की गई थी। फिर लिंक रोड पर भी ध्‍यान दिया गया। लेकिन सरकार का अब पूरा ध्‍यान बड़ी सड़क निर्माण परियोजनाओं पर है। इसके तहत एक्‍सप्रेसवे के निर्माण के लिए हरी झंडी मिल गई है साथ ही पटना को सड़क मार्ग से कनेक्ट करने की प्रक्रिया तेज हो गई हैं।

फिलहाल शहर को आंतरिक एवं बाहरी तरीके से सड़क मार्ग से कनेक्ट करने को लेकर काम हो रहा है। और इसका सीधा उदाहरण लोकनायक गंगा पथ है। इसके बनने से पटना के PMCH से AIIMS जाना आसान हो जाएगा। PMCH एवं पटना एम्‍स के बीच की दूरी 20 किमी है। फिलहाल ट्रैफिक ज्यादा होने के कारण इस दूरी को तय करने में 90 से 120 मिनट लग जाता हैं। लेकिन गंगा पथ के चालू होने के बाद मात्र 20 मिनट में यह दूरी तय की जा सकेगी।

पटना का लोकनायक गंगा पथ मरीजों के लिए वरदान सिद्ध होगा। इसके बनने के बाद पटना एम्स से PMCH की दूरी काफी कम हो जाएगी। एम्स से दीघा एलिवेटेड रोड और गंगा पथ के रास्ते होते हुए महज 20 मिनट में मरीज PMCH पहुंच जाएंगे। वहीं PMCH से पटना एम्‍स की दूरी भी कम हो जाएगी और 20 मिनट में तय की जा सकेगी।

आपको बता दें कि दीघा से PMCH तक लोकनायक गंगा पथ का 8 किमी का लेन बनकर तैयार हो चुका है। तथा इसको शहर से भी जोड़ दिया गया है। मालूम हो कि इस रूट से शहर में प्रवेश करने के लिए 4 रास्ते बनाए गए हैं। अटल पथ का हिस्सा भी इसमें जोड़ा गया है। वहीं दीघा सेतु से डाइरेक्ट इन दोनों हाइवे पर आने वाला मार्ग भी बनकर तैयार हो चुका है। इंतजार है तो इन परियोजनाओं के उद्घाटन का।

गंगा पथ को अटल पथ से कनेक्ट होने के साथ-साथ दीघा एलिवेटेड रोड से जुड़ने के कारण PMCH एवं पटना एम्स की भी दूरी घट गई है। इन दोनों रास्‍तों के जुड़ जाने से मरीजों को एम्स से PMCH या PMCH से पटना एम्स में शिफ्ट करने में महज 20 मिनट लगेंगे। वर्तमान में पटना एम्स से PMCH जाने के लिए फुलवारी शरीफ, अनीसाबाद होते हुए अशोक राजपथ आना पड़ता है फिर उसके बाद PMCH पहुंचते हैं। इसमें लगभग डेढ़ से 2 घंटे का समय लग जाता हैं। कभी-कभी इमरजेंसी मरीजों को बेड नहीं मिलने पर एक से दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया जाता है ताकि उनकी जान बचाई जा सके। ऐसे मरीजों के लिए भविष्‍य में गंगा पथ वरदान साबित हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0