पप्पू यादव ने ली प्रतिज्ञा, कहा – मुख्यमंत्री बनने के बाद 3 साल में बदल दूंगा बिहार, अगर नहीं कर सका तो ले लूंगा राजनीति से सन्यास, पढे़ पप्पू यादव जी का प्रतिज्ञा पत्र

पटना । हमारा बिहार ज्ञान, परिश्रम व संघर्ष की भूमि है। यहां की मिट्टी में जन्मा हर व्यक्ति प्रतिभा का धनी है। यही कारण है बिहार सबसे अधिक आईएएस और आईपीएस देश को देता था। प्राचीन सभ्यता, संस्कृति और आध्यात्मिक ज्ञान का पुरोधा बिहार को माना जाता था। जहां नालंदा विश्वविद्यालय जैसा प्राचीन भारत में उच्च शिक्षा का सर्वाधिक महत्वपूर्ण और विख्यात केन्द्र रहा हो, जो भगवान बुद्ध की ज्ञान भूमि रही हो, अंखण्ड भारत पर राज करने वाला मौर्य राजवंश रहा हो और जहां महान अशोक सम्राट जैसे योद्धा पैदा हुए हों वह राज्य बिहार ही था। इतनी सम्पन्न, समृद्ध और महान सभ्यता वाला बिहार वर्तमान समय में राजनीतिक भेंट चढ़कर बेरोजगारी, भुखमरी और आपराधिक छवि वाला राज्य बनकर रह गया है।

बिहार की सत्ता 30 सालों से ऐसे हाथों में है जहां बाढ़ है, अपराध है, बेरोजगारी है, अशिक्षा है, स्वास्थ्य सेवाएं नहीं हैं, भ्रष्टाचार है, सामाजिक उन्माद है, कुप्रभाव है और कुव्यवस्था है। यही कारण है सरकार की अनदेखी और भ्रष्टाचार की जड़ें इतनी मजबूत बनी की बिहार साल दर साल पिछड़े पन में नंबर एक पर पहुँचता चला गया। जहां आंकड़ों की भाषा शर्मिंदगी के अलावा कुछ नहीं देती है।

बिहार के विकास को दशा व दिशा देने के लिए जन अधिकार पार्टी(लोकतांत्रिक) पूर्ण रूप से प्रतिबद्ध है। जन अधिकार पार्टी(लो.) की विचारा केवल सामाजिक सद्भाव व जन सेवा की है। गरीब-अमीर, जात-पात के भेदभाव से बिल्कुल विपरीत केवल समानता व समरसता की बात करने वाली जन अधिकार पार्टी(लो.) जनता के संवैधानिक अधिकारों व सम्मान के लिए संघर्ष करती रही है।

बिहार में आगामी विधानसभा 2020 चुनाव के अंतर्गत जन अधिकार पार्टी(लो.) एक प्रतिज्ञा पत्र जनता के समक्ष रख रही है। एक ऐसी प्रतिज्ञा जो जात-पात से बहुत दूर, लेकिन भाईचारा व सामाजिक सद्भाव को स्थापित करेगी। ऐसी प्रतिज्ञा जो रोजगार का सृजन करेगी, जो गरीब व असहाय लोगों के लिए मजबूत स्तम्भ बनकर उनके सशक्तिकरण के लिए काम करेगी। बिहार के हर क्षेत्र को विकसित बनाने की प्रतिज्ञा और वह भी हाईकोर्ट के प्रमाणपत्र के साथ। इस प्रतिज्ञा पत्र में जन अधिकार पार्टी(लो.) ने हर वर्ग विशेष का ध्यान रखा है! सबकी समृद्धि व उद्धार के लिए किए जाने वाले बिंदुओं को हम अंकित कर रहे हैं।

●जन अधिकार पार्टी(लो.) की सरकार बनने पर सभी वर्गों को वाजिब हक और सम्मान देने के वास्ते सवर्ण समाज से, मुस्लिम समाज से, दलित समाज से एवं अति पिछड़ा वर्ग समाज से एक-एक उप मुख्यमंत्री बनाया जाएगा ताकि पप्पू यादव जी की सरकार में सभी समुदायों को सरकार में उच्च शिखर पर वाजिब हक और सम्मान मिल सके।

●जन अधिकार पार्टी(लो.) ने हमेशा भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज को बुलंद किया है इसलिए छ: महीने के अंदर ब्लॉक, जिला कार्यालय, अस्पताल एवं तमाम सरकारी दफ्तरों को भ्रष्टाचार से मुक्ति दिलाएंगे।

●धर्म और जात के नाम पर उन्माद और दंगे फैलाने में संलिप्त व्यक्तियों (और उनके परिवार) की तमाम सरकारी सुविधाओं को हमेशा के लिए बंद कर दिया जाएगा। इसके लिए छह महीने के अंदर क़ानून लाएंगे। वह न तो सरकारी नौकरी कर सकते हैं, न चुनाव लड़ सकेंगे और न ही कोई अन्य सरकारी सुविधा ले पाएँगे! क्योंकि दंगे और उन्माद अधिकतम लोग सिर्फ़ राजनीतिक फ़ायदे के लिए करते हैं। वह बंद हो जाएगा तो धर्म व जात के दंगों पर रोक लगेगी।

●लड़कियों की शादी के लिए जीरो परसेंट ब्याज पर उनके अभिभावक को 10,00,000 रुपए तक का लोन दिया जाएगा। जिससे बेटियों का विवाह अविलंब व बिना किसी परेशानी के हो सकेगा। इस लोन को लौटाने की अवधि 5 वर्ष होगी। जिससे परिवार पर आर्थिक भार नहीं पड़ेगा।

●बिहार का हर वह खिलाड़ी जो नेशनल स्तर पर खेलकर टॉप पांच में अपना स्थान हासिल करेगा उसे सरकारी नौकरी मिलेगी। ताकि खेलों के क्षेत्र में युवाओं को प्रोत्साहन मिले और बिहार का खिलाड़ी भारतीय टीम का हिस्सा बन देश के लिए स्वर्ण पदक जीतकर हिंदुस्तान का मान बढ़ाये।

●बिहार में बाढ़ के कारण हर साल एक करोड़ से अधिक लोग प्रभावित होते हैं। अपने घर परिवार तक को खो देते हैं। बिहार की बाढ़ बिहार की जनता के लिए एक अभिशाप बनकर रह गयी है, लेकिन हमारे द्वारा तीन वर्ष के अंदर बिहार को बाढ़ से मुक्ति दिलाई जाएगा। इसके लिए तमाम सहायक नदियाँ और नहर-नालों को दुरुस्त किया जाएगा।

●हर महीने के 28 तारीख को बीपीएल परिवार को 25 किलो चावल, 20 किलो आटा, 10 किलो आलू, 2 किलो दाल और 2 लीटर सरसों का तेल दिया जाएगा।

●बिहार के सभी पुलिस स्टेशनों में उर्दू विशेषज्ञों की भर्ती करवाएंगे, उर्दू अनुवादक और उर्दू टाइपिस्ट ‘हर ब्लॉक स्तर पर भर्ती करवाएंगे। सभी कार्यालयों व विद्यालयों में बिहारी बोलियों को प्राथमिकता दी जाएगी। संस्कृत और उर्दू को शिक्षा में प्राथमिकता देंगे। प्राथमिक शिक्षा में हाईस्कूल तक मैथिली अनिवार्य होगी। बिहार में जो भी एग्जाम होगा उसमें मैथिली को प्राथमिकता देंगे।

●बेटियों से छेड़खानी करने वालों को तुरंत कठोर दंड दिया जाएगा। बेटियों के अस्मत लूटने वाले अपराधियों को दो सप्ताह के अंदर दंडित किया जाएगा और दंड की प्रक्रिया में लेट न हो इसके लिए हर जिला में एक स्पेशल कोर्ट बनाया जाएगा।

●ढाई साल के अंदर ब्लाक और जिला मुख्यालयों के अस्पतालों को सुपर स्पेशलिस्ट तकनीक से लैस किया जाएगा। तीन साल के अंदर हर अनुमंडल में तीन सौ बेड के अस्पताल का निर्माण कराया जाएगा। भूमिहीन परिवार और दिहाड़ी मजदूर का टीबी, कैंसर, हर्ट और किडनी का इलाज मुफ्त में किया जाएगा।

●किसानों को उनकी लागत पर कम से कम 50 प्रतिशत लाभ मिलना सुनिश्चित किया जाएगा। किसानों के अनाज को कॉपरेटिव के द्वारा खरीदा जाएगा। सरकार किसान से डायरेक्ट खरीदारी करेगी।

●कृषि आधारित उद्योग स्थापित करेंगे! आटा मिलों, चीनी मिलों, तेल मिलों, दाल मिलों, बिस्कुट कारखानों, बेकरी, फल-रस कारखानों, फल प्रसंस्करण उद्योग, अचार बनाने, डेयरी उत्पाद, कागज निर्माण आदि इकाइयों को गांवों या ब्लॉकों को सौंपा जाएगा जहाँ कच्चा माल आसानी से उपलब्ध हो।

●बिहार में सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर फिल्म सिटी का निर्माण करवाया जाएगा। बिहार में फिल्म शूटिंग करने पर सब्सिडी दी जाएगी। ताकि बिहार की प्रतिभा को एक बेहतर मंच मिल सके।

●जन अधिकार पार्टी(लो.) की सरकार ऐसी शिक्षा प्रदान करेगी जो प्राथमिक से विश्वविद्यालय स्तर तक सभी के लिए समान और निःशुल्क होगी।

●अल्पसंख्यक वर्ग के इलाकों में उद्योग तथा कारखाने की स्थापना के लिए हर प्रकार की सुविधा प्रदान करेंगे। साथ ही इन वर्गों की सामाजिक और आर्थिक उन्नति के लिए इन्हें कर्ज मुहैया कराएंगे जहां ऋण के लिए कम से कम ब्याज दर निर्धारित किया जाएगा।

●बिहार की सड़कों को छात्रों और किसानों के लिए टोल फ्री किया जाएगा।

●सुरक्षा बटन की सरकार होगी! सरकार हर मोबाइल फोन पर एक सुरक्षा या एसओएस बटन की सुविधा देगी। इस सुरक्षा बटन के जरिए महिलाएं आपात स्थिति में निकटतम पुलिस स्टेशन, पीसीआर वैन, रिश्तेदारों और स्वयंसेवक समुदाय से संपर्क कर सकती हैं। जिससे महिलाओं की सुरक्षा व्यवस्था बेहतर होगी।

●पूरे राज्य में 300 जन आहार केंद्र खोले जाएंगे जहाँ 5 रुपये में भरपेट पौष्टिक भोजन मिलेगा। जिससे बिहार में कोई भी गरीब भूखा नहीं रहेगा।

●गरीबी रेखा से नीचे जीने वाले लोगों को बिजली-पानी मुफ्त दिया जाएगा।

●अंतर्रजातीय विवाह करने वाले दंपति के नाम से 10 लाख रुपया अनुदान या फिर पत्नी को सरकारी नौकरी दी जायेगी। इस पहल से सामाजिक समरसता व सद्भावना जुड़ेगी।

यह सभी प्रतिज्ञा बिहार की जनता व बिहार के लिए कारगर साबित होंगी। बीती सरकारों ने बिहार को 30 सालों में लूटकर देश के सबसे फ़िसड्डी राज्यों में लाकर खड़ा कर दिया है। हम बिहार की जनता से इन सभी प्रतिज्ञा को जमीन पर उतारने के लिए केवल 3 साल मांगते हैं। हमारी लड़ाई 30 साल बनाम 3 साल की है। आप सभी ने उनको 30 साल दिए, आप हमें 3 साल मौका जरूर दें ताकि बिहार लाचार नहीं खुशहाल बन सके। हमारा संकल्प बिहार को 3 साल में एशिया का सबसे समृद्ध व सशक्त राज्य बनाने का है! जिसमे आपकी भूमिका बेहद महत्वपूर्ण होगी।

रिपोर्ट – स्वेता मेहता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0