आर्थिक तंगी के कारण दम तोड़ रही है कैमूर की बेकरी उत्पाद की मांग दोस्तों की दोस्ती बनी मिसाल लॉकडाउन में मिलकर खोल डाली एक बेकरी कंपनी

Kaimur’s bakery product is dying due to financial constraints, a bakery company opened in lockdown by making friends’ friendship example

Kaimur : बिहार के कैमूर के दो दोस्तो की गज़ब कहानी है,बिटू और उमेश की ,दोनो दोस्त बचपन से साथ रहे पढ़ाई भी साथ किए जब घर का जिम्मेवारी आया तो दोनों दोस्त साथ दिल्ली चले गए कमाने,जब कोरोना के लॉक डाउन लगा तो घर वापस मोहनियां थाना क्षेत्र के अमरपुरा गांव आ गए और खोल डाली बेकरी का एक छोटा सा फैक्ट्री ,जिसमें ब्रेड,केक,पेस्टी बनाने लगे,कमाई भी अच्छी खासी होने लगी।

महीने के 36 हजार रुपये कमा रहे है वो भी छोटा गाँव में, इनके बनाए हुए ब्रेड का क्वालिटी इतनी अच्छी है कि ऑडर भी खूब मिलने लगा ,जिसे पूरा भी नहीं कर पाते कारण है मजदूरों की कमी और पैसे की माली हालत,अब जिला प्रशासन से मदद की गुहार लगा रहे है।बिटू और उमेश बताते है कि जिला प्रशासन मदद करे तो फैक्ट्री और बढ़ाया जाएगा साथ ही गाँव के बेरोजगार युवकों को रोजगार मिल जाएगा।इनके कार्य को देख घर वाले भी काफी खुश है उनका बेटा दिल्ली के बदले अब गाँव रह कर अच्छी पैसा कमा रहा है अब दोनों दोस्त गाँव में ही अपना रोजगार चलाना चाहते है।अब देखना होगा कि दोनों दोस्त को जिला प्रशासन कब मदद करती है जिससे कैमूर के दोनों दोस्त अपना व्यवसाय और बढ़ा सकें।

कैमूर से विवेक कुमार की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0