इंटरमीडिएट परीक्षार्थियों के लिए अच्छी खबर, बिहार बोर्ड ने लिया अपना फैसला वापस

इंटरमीडिएट परीक्षार्थियों के लिए अच्छी खबर, बिहार बोर्ड ने लिया अपना फैसला वापस

Patna : इस वक्त एक बड़ी खबर राजधानी पटना से सामने आ रही है बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से इंटरमीडिएट की परीक्षा को लेकर एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है. बिहार बोर्ड ने इसबार इंटरमीडिएट की परीक्षा में परीक्षार्थियों को जूता-मोजा पहनकर परीक्षा में बैठने की इजाजत दे दी है. हालांकि 17 फ़रवरी से शुरू होने वाली मैट्रिक परीक्षा को लेकर अबतक कोई निर्णय नहीं लिया गया है.

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की इंटरमीडिएट और मैट्रिक परीक्षाओं की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. इंटरमीडिएट की परीक्षा 1 से 13 फरवरी तक चलेगी. जबकि, मैट्रिक की परीक्षा 17 से 24 फरवरी तक होगी. कदाचार मुक्त परीक्षा को लेकर बिहार के सभी जिलों के एसपी और डीएम को पत्र लिखा गया है. बिहार बोर्ड ने इस बार इंटरमीडिएट की परीक्षा में परीक्षार्थियों को जूता-मोजा पहनकर एग्जामिनेशन हॉल में बैठने की इजाजत दे दी है. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से परीक्षा के संचालन के लिए सभी जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारी और केंद्राधीक्षकों को भी कई महत्वपूर्ण निर्देश दिये हैं.

कोरोना संक्रमण को देखते हुए बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने इस बार कई नई गाइडलाइंस जारी की है. सरकार ने इस बार कदाचार मुक्त परीक्षा को लेकर भी आयोग अधिक गंभीर रहने का निर्देश दिया है. अब परीक्षा के दौरान कदाचार करते हुए अगर किसी को पकड़ा गया तो उसे 2 हजार रुपये का जुर्माना भरना हो या फिर 6 महीने जेल की सजा होगी.

शिक्षा विभाग की ओर से जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को लिखे गए पत्र में यह कहा गया है कि संवेदनशील परीक्षा केंद्र पर नियमित पुलिस बल की तैनाती की जाये. एग्जाम सेंटर के मुख्य स्थलों पर CCTV कैमरे लगाए जाये और परीक्षा केंद्र के बाहर वीडियोग्राफी कराई जाये. एग्जाम के समय जिलों में फोटो स्टेट की दुकानों पर विशेष निगरानी रखी जाये. सरकार ने कहा है कि जिन परीक्षा केंद्रों पर कदाचार की सूचना मिलेगी, वहां की परीक्षा रद्द कर दी जाएगी.

कोरोना काल में भी बिहार बोर्ड की मैट्रिक की परीक्षा में रिकार्ड परीक्षार्थी शामिल होंगे. पिछले साल के मुकाबले इस साल एक लाख 55 हजार 73 परीक्षार्थी बढ़ गये हैं. इस बार मैट्रिक परीक्षा में 16 लाख 84 हजार 466 परीक्षार्थी शामिल होंगे. जबकि 2020 में 15 लाख 29 हजार 393 परीक्षार्थियों ने परीक्षा फॉर्म भरा था, इनमें से 14 लाख 94 हजार 771 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे.

इंटरमीडिएट परीक्षा को लेकर पूरे बिहार में 1525 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं. 2020 की मैट्रिक परीक्षा के लिए राज्यभर में 1368 परीक्षा केंद्र बनाये गये थे. इस बार 1525 केंद्र हैं, यानि 157 परीक्षा केंद्र इस बार अधिक हैं. पटना में भी परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ी है. पटना में इस साल 73 हजार परीक्षार्थी मैट्रिक परीक्षा में शामिल होंगे.

सबसे अधिक गया में 83 हजार परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हो रहे हैं.पटना में इस साल 73 हजार परीक्षार्थी मैट्रिक परीक्षा में शामिल होंगे. सबसे अधिक गया में 83 हजार परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हो रहे हैं. बता दें कि मैट्रिक की वार्षिक परीक्षा 17 फरवरी से शुरू होगी और 24 फरवरी तक चलेगी. परिणाम भी मार्च के अंत तक घोषित कर दिया जाएगा. पिछले साल भी परीक्षा 17 से 24 फरवरी तक आयोजित हुयी थी.

रिपोर्ट – स्वेता मेहता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0