फर्जी शिक्षिका को बचाने में बीडियो से लेकर डी पी ओ कि भूमिका संदिग्ध

From Beedio to DPO’s role suspected in saving fake teacher

जांच में पदाधिकारी से लेकर कर्मी तक लटक सकती है तलवार

जिलाधिकारी ने बताया :होगी अविलंब करवाई

मोतिहारी । इन दिनों सुगौली में फर्जी शिक्षिका के मामले में भ्रष्टाचार थमने का नाम नहीं ले रहा है । जिसमे बी डी ओ से लेकर डी पी ओ कार्यालय तक की भूमिका सामने आ रही है । फर्जी शिक्षिका शोभा देवी का चयन वर्ष 2005-06 में हुई है । जिसमे शिक्षिका शोभा देवी का जन्म तिथि 05/01/1985 अंकित है जबकि शिक्षिका शोभा देवी की पुत्री रेखा कुमारी जो एस पी एन कॉलेज से इंटर कि परीक्षा उत्तीर्ण की है का जन्म तिथि 01-02-1991अंकित है । यानी मा अपनी बेटी सेलगभग ,6साल की बड़ी है । इस फर्जीवाड़े का खुलासा आर टी आई से होने के बाद तत्कालीन बी ई ओ कुमारी जयश्री ने अपने जांच रिपोर्ट पत्रांक 86 दिनांक 16-2-2018को प्रखंड विकास पदाधिकारी सुगौली को सौंपी जिसमे कई तरह के सनसनीखेज मामले सामने आए ।
शिक्षिका का चयन 17साल11महीना27दिन पर किया गया है जो निर्धारित समय से 3 दिन कम है.

राधा गोविंद राम सवारी संस्कृत माध्यमिक विद्यालय सुगौली में धरातल पर कहीं नहीं है

शिक्षिका शोभा देवी , राधा गोविंद राम सवारी संस्कृत माध्यमिक विद्यालय से मध्यमा कि परीक्षा उत्तीर्ण कि है

6साल में ही शिक्षिका ने एक पुत्री को जन्म दिया है

जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ,(स्थापना) के आदेश को ठेंगा दिखा रहे है वि डि ओ

इस संदर्भ में सुगौली पी एच सी में कार्यरत चिकित्सा अधिकारी डॉ0 मालती यादव ने बताया कि 6साल में कोई भी लड़की बच्ची पैदा नहीं कर सकती है यह पूरा मामला फर्जीवाड़े का है

इस बाबत जब जिलाधिकारी शिर्षत कपिल अशोक ने बताया कि यह मामला अभी मेरे संज्ञान में आया है इस मामले में अविलंब करवाई कि जाएगी ।

संवाददाता : रविशंकर मिश्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0