“फ्रेंड्स ऑफ आनंद” ने एलान प्रस्ताव पास कर लिया, पूर्व सांसद की रिहाई नही होने तक करेगी सूबे में प्रदर्शन

मुजफ्फरपुर | फ्रेंड्स ऑफ आनंद के बैनर तले रविवार को मुजफ्फरपुर प्रमंडल के प्रमुख सदस्यों की एक महत्वपूर्ण बैठक किया गया जिसमें बैठक को मुख्य रूप से संबोधित करते हुए पूर्व सांसद आनंद मोहन और लवली आनंद के ही पुत्र अंशुमन मोहन ने कहा कि जिस झूठे केस में पिता आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे हैं। उस मुकदमे का सच झूठ और ये साजिश का असली गवाह यह मुजफ्फरपुर है। यहाँ का बच्चा-बच्चा अवगत है कि 4 नवंबर 1994 को खबडा गाँव में दिन की रोशनी में क्या हुआ था और बाद में किस तरह एक गहरी राजनैतिक साजिश के तहत मेरे पिता व उनके साथियों को फंसाया गया। राज्य के वर्तमान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी भी समाजवादी नेता जॉर्ज फर्नांडिस के साथ यहां कलेक्ट्रेट पर धरने पर बैठ प्रेस के ही सामने आनंद मोहन और उनके साथियों को निर्दोष बताया था। और अब गत लोकसभा चुनाव के साथ ही महाराणा प्रताप जयंती पर पटना में वे सार्वजनिक मंचों से आनंद मोहन की रिहाई की घोषणा भी कर चुके हैं ऐसे मांग है कि चुनाव पूर्व सरकार उनकी

ससम्मान दोषमुक्त रिहाई का मार्ग प्रशस्त करे और अब एक स्वर से उनकी रिहाई की मांग उठाई व चेतावनी दी कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो सत्तारूढ़ पार्टियों को इसका भारी नुकसान उठाना पड़ेगा।और अब संगठन ने तीन मुख्य प्रस्ताव भी पारित किए गए जिसमे की आनंद मोहन की रिहाई नहीं हुई तो NDA सांसदों, विधायकों का घेराव किया जाएगा। सोशल मीडिया सहित शहरों से गांवों के सभी प्रमुख चौक-चौराहों, ट्रेनों बसों , ऑटो रिक्शा और निजी वाहनों पर बैनर पोस्टर स्टीकर के माध्यम से ही “पोस्टर बार” प्रारंभ किया जाएगा और जिला मुख्यालय से प्रखंड और पंचायत स्तर तक “मशाल जुलूस” निकालकर “रोष प्रदर्शन” किए जाएंगे।

रिपोर्ट – विशाल कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0