ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरूकता के लिए 11 अक्टूनबर को पटना में पहली बार आयोजित होगा वर्चुअल पिंक रन

पटना । भारतीय महिलाओं में स्तन कैंसर के मामले अधिक सामने आते हैं। हर 8 में से एक महिला को यह कैंसर होने का खतरा है। ब्रेस्ट कैंसर की 4 स्टेज होती है। अगर कैंसर पहली स्टेज यानी शुरुआती अवस्था में है तो मरीज के ठीक होने की उम्मीद 80 फीसदी तक होती है। दूसरी स्टेज में 60 से 70 फीसदी तक ठीक होने की सम्भावना रहती है। कैंसर की तीसरी या चौथी स्टेज में इलाज थोड़ा कठिन हो जाता है। इसके कुछ लक्षणों को अगर समय पर पहचान लिया जाए तो इलाज आसान हो जाता है। दुनिया भर में हर साल अक्टूबर माह को ब्रेस्ट कैंसर अवेयरनेस मंथ के तौर पर मनाया जाता है। जानिए ब्रेस्ट कैंसर से बचने के लिए किन बातों का ध्यान रखें और कैसे अलर्ट रहें। प्रख्यात कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ वी पी सिंह ने यह बताया।

इस अवसर पर डॉ वी पी सिंह ने बताया कि ब्रेस्टे कैंसर के कौन से लक्षण दिखने पर अलर्ट हो जाएं? उन्‍होंने बताया कि स्तन में दर्द, बाहों के नीचे भी गांठ होना भी स्तन कैंसर के संकेत हैं। हालांकि स्तन में हर गांठ कैंसर नहीं होती, लेकिन इसकी जांच करवाना बेहद जरूरी है, ताकि आगे चलकर कैंसर का रूप ना ले। इस रोग से डरे नहीं क्योंकि इसका इलाज संभव है। पहली स्टेज में ही अगर इस रोग की पहचान हो जाती है तो इसे जड़ से खत्म किया जा सकता है।

उन्‍होंने बताया कि बढ़ती उम्र के अलावा हार्मोनल थैरेपी में दी जाने वाली दवाएं, अधिक उम्र में शादी करने के साथ ही अधिक उम्र में बेबी प्लान करना, आनुवांशिकता, खराब जीवनशैली, अल्कोहल लेने से यह कैंसर हो सकता है। स्तन कैंसर का कारण आनुवांशिक भी हो सकता है, लेकिन ऐसा सिर्फ 5-10 प्रतिशत महिलाओं में ही पाया जाता है। धूम्रपान भी इसके कारणों में एक है। डॉ वी पी सिंह ने आम जनों के हित में आगे और भी महत्वपूर्ण तथ्यों की जानकारी दी आमतौर पर 40 की उम्र के बाद इसकी आशंका बढ़ जाती है। इसके अलावा फैमिली हिस्रीशा है तो भी ब्रेस्ट कैंसर हो सकता है। इसके लक्षण शुरुआत में दिखाई नहीं देते। लेकिन सेल्फ ब्रेस्ट एग्जामिनेशन और मैमोग्राम जांच करवाकर इसका पता लगा सकते हैं।अलग-अलग महिलाओं में स्तन कैंसर के लक्षण भी अलग पाए जाते हैं।

अक्टूबर माह में Pink walk नाम से ब्रेस्ट कैंसर के विरूद्ध डॉ वी पी सिंह के नेतृत्व में पिछले 10 वर्षों से इस जागरूकता अभियान का आयोजन हर वर्ष किया जाता है। कोरोना महामारी के प्रभाव एवं सरकार द्वारा इसके बचाव के लिए दिए गए दिशा निर्देश का पालन करते हुए इस वर्ष भी इस कार्यक्रम का आयोजन “Virtual Pink Run” के नाम से सोशल मिडिया एवं गूगल मेट की सहायता से हो रहा है।

कैंसर रोग विशषज्ञ डॉ वी पी सिंह ने बताया कि ब्रेस्ट कैंसर की आशंका का खतरा कब बढ़ता है: बढ़ता मोटापा, ब्रेस्ट फीडिंग न कराना, खानपान का ध्यान रखने पर, लम्बे समय से गर्भनिरोधक दवाएं लेने पर

कार्यक्रम के आयोजन में कैंसर जागरूकता अभियान की दिशा में कार्य करने वाली अग्रणी संस्था ” R.S. MEMORIAL CANCER SOCIETY” मुख्य भूमिका में है।समाज कल्याण में सहभागिता देने वाली कुछ प्रमुख संस्था जैसे कि Rotery patna mid town , cancer Awareness society, Rotery patna greater, society of oncology एवं lions club Patliputra Astha भी एक कार्यक्रम के आयोजन में अपना सहयोग दे रही है।

डॉ वी पी सिंह ने ज्यादा से ज्यादा लोगो से इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने की अपील की तथा कैंसर ग्रसित मरीजों को यथासंभव उपचार एवं दूसरी सुविधाओं को देने का आश्वासन दे दिया। इस प्रेस वार्ता में पद्मश्री सम्मानित प्रख्यात हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ आर एन सिंह भी उपस्थित थें।अन्य प्रमुख उपस्थित चिकित्सकों के नाम इस प्रकार है:डॉ प्रितांजली सिंह, डॉ आशीष सिंह।

रिपोर्ट – स्वेता मेहता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0