BPSC PAPER LEAK: परीक्षा से पहले क्वेश्चन पेपर वायरल, बीपीएससी ने लिया ये बड़ा फैसला

Patna : बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्न पत्र रविवार को परीक्षा आरंभ होने से लगभग 15 मिनट पहले वायरल होने की बात करते हुए राज्य के कई केंद्रों पर छात्रों ने हंगामा किया। आरा, पटना, वैशाली, औरंगाबाद, सीतामढ़ी सहित कई परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा के बाद छात्रों ने कहा कि सभी वायरल प्रश्न पत्र परीक्षा में मिले प्रश्न पत्र से मैच कर रहे हैं। इस संबंध में आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि विभिन्न टीवी चैनलों पर प्रश्न पत्र लीक होने की सूचना प्रसारित की गई। मामले को लेकर आयोग के अध्यक्ष आरके महाजन ने जांच के लिए आयोग की तीन सदस्यीय टीम गठित की है। जांच दल 24 घंटे के भीतर अपनी रिपोर्ट देगा। इसके बाद आयोग निर्णय लेगा।

आधा घंटा पहले खुलता है प्रश्न पत्र

आयोग के अनुसार बीपीएससी की ओर से सभी परीक्षा केंद्रों पर दंडाधिकारी, पुलिस बल की उपस्थिति में सील पश्न-पत्र उपलब्ध कराया जाता है। इसे परीक्षा केंद्रों पर वहां प्रतिनियुक्त स्टैटिक दंडाधिकारी की उपस्थिति में परीक्षा प्रारंभ होने के आधा घंटा पूर्व सील प्रश्न-पत्र खोलने की अनुमति होती है। परीक्षा केंद्रों पर अभ्यर्थियों की एक घंटा पहले चेकिंग करते हुए प्रवेश दिया जाता है। आधा घंटा पहले परीक्षा कक्ष में आवंटित सीट पर अभ्यर्थी को बैठाया जाता है। किसी भी परीक्षार्थियों को परीक्षा प्रारंभ होने के पश्चात परीक्षा केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाता है। किसी भी परीक्षार्थी एवं वीक्षक का परीक्षा केंद्र के अंदर मोबाइल ले जाना वर्जित है।

परीक्षा रद नहीं होने पर होगा राज्यव्यापी आंदोलन

छात्र एकता मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिलीप कुमार ने कहा कि सुबह 11 बजे से ही विभिन्न टेलीग्राम व व्हाट्सएप ग्रुप पर बीपीएससी 67वीं का प्रश्न पत्र वायरल था। मामले को लेकर 11:49 में ही cmbihar-bih पर सभी वायरल प्रश्न पत्र को ई-मेल कर सूचना दे दी गई थी। तब ई-मेल के माध्यम से आग्रह क्या था कि प्रश्न पत्र वायरल है, मामले की जांच कराई जाए। परीक्षा के बाद वायरल प्रश्न पत्र को अभ्यर्थियों ने सही बताया है। सभी प्रश्न वायरल प्रश्न से मैच हो गए हैं। दिलीप ने कहा कि मामले में आयोग परीक्षा को रद करने के साथ सरकार के स्तर पर सीबीआइ जांच की सिफारिश करे। यदि ऐसा नहीं होता है तो मामले को लेकर राज्यव्यापी आंदोलन होगा।

सभी जिलों में बनाए गए थे 1083 परीक्षा केंद्र

बीपीएससी की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा रविवार को राज्य के सभी जिलों के 1083 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित हुई। पटना में 55,710 परीक्षार्थियों के लिए 83 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। 802 पदों के लिए पहली बार रिकार्ड छह लाख से अधिक आवेदन परीक्षा के लिए आए थे। एग्जाम दोपहर 12 बजे से दो बजे तक आयोजित हुआ। आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि इस परीक्षा के लिए 6,02,221 अभ्यर्थियों ने आनलाइन आवेदन किया था। सभी परीक्षा केंद्रों पर जिला प्रशासन की ओर से धारा 144 लागू की गई थी। परीक्षा के लिए सभी जिलों के डीएम को सह परीक्षा संयोजक बनाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0