आईपीएल के तर्ज पर पटना में लांच हुआ बिहार क्रिकेट लीग

पटना : ग्रासरूट डेवलपमेंट क्रिकेट के लिए हमेशा से महत्‍वपूर्ण रहा है, लेकिन इसमें विभिन्‍न स्‍तरों पर चुनौतियों का सामना करने से उम्‍मीद के अनुरूप परिणाम नहीं मिलता। मगर बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने एलिट स्‍पोर्टस मैनेजमेंट के साथ मिलकर एक सही कदम उठाते हुआ आज पटना के होटल मौर्या में आईपीएल के तर्ज पर ‘बिहार क्रिकेट लीग’ को आधाकारिक तौर पर लांच कर दिया है।

बिहार क्रिकेट लीग, जिसे बीसीएल के नाम से जाना जाता है, एक आईपीएल शैली की फ्रेंचाइजी आधारित क्रिकेट लीग है, जिसमें पूरी तरह से एक आकर्षक लीग फ्लेवर हैं। यह एक टी 20 प्रारूप लीग होगी, जहां प्रत्येक टीम एक बार एक दूसरे से खेलेगी और शीर्ष चार सेमीफाइनल खेलेगी और उसके बाद फाइनल खेलेगी।

सोना सिंह, बीसीएल के गवर्निंग कौंसिल के चेयरमैन ने बताया कि बिहार क्रिकेट लीग के लिए एलीट स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के साथ साझेदारी बीसीएल के लिए अच्‍छी खबर है। उल्लेखनीय है कि यह झारखंड प्रीमियर लीग, जेपीएल के बराबर जाना जाता है। एलीट स्पोर्ट्स मैनेजमेंट को ऐसे प्रीमियर लीग आयोजित करने का अनुभव है। आगे उन्होंने बताया कि सीमित संसाधनों के बावजूद बिहार के खिलाड़ियों को बेहतर अवसर देने का प्रयास किया जा रहा है। यह शानदार और भव्य भी हो, इसके लिए हमारा संयुक्त प्रयास जारी रहेगा।। बीसीएल गवर्निंग कौंसिल के कन्वेनर श्री ओम प्रकाश तिवारी ने लीग को लेकर कहा कि हमारी लंबे समय से आईपीएल स्टाइल क्रिकेट लीग आयोजित करने की योजना थी, जो अब साकार होने वाला है। यह बीसीएल बिहार के क्रिकेटरों के लिए बहुत अच्छा है।

एलीट स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के डायरेक्टर निशांत दयाल ने बताया, “बीसीएल के लिए बिहार से 350 क्रिकेटरों की नीलामी की जायेगी, जो लीग में संबंधित फ्रेंचाइज के साथ खेलते हुए नजर आयेंगे। इसमें तीन सालों की अवधि के लिए बिहार के पांच शहरों के नाम पर फ्रेंचाइजी के मालिकों द्वारा नीलामी में भाग लिया जाएगा। लीग को एक डबल हेडर प्रारूप में खेला जाना है, जिसका अर्थ है कि पहला गेम 3 PM पर शुरू होगा और दूसरा गेम फ्लड लाइट्स के तहत 7 PM पर शुरू होगा।

लाइव टेलीकास्ट का प्रावधान होने जा रहा है, जो बिहार के प्रतिभावान खिलाडियों को बड़े कैनवास पर अपनी प्रतिभा दिखाने में मदद करेगा ”। श्री दयाल ने यह भी कहा “बीसीएल की हमारी अवधारणा देश की अन्य लीगों की अलग-अलग होने वाली है क्योंकि प्रत्येक टीम में एक मेंटर आयेंगे, जो नॉन-प्लेइंग कैप्टन है जो कि एक सेवानिवृत्त इंटरनेशनल क्रिकेटर है, जो मैमथ के अनुभवों को साझा कर सकता है। बिहार के खिलाड़ियों के लिए जो न केवल भारी आत्मविश्वास देगा, उन्हें एक अलग खिलाड़ी के रूप में भी उभारेंगे।

बीसीएल में फ्रेंचाइजी की टीमों के मेंटर के रूप में शामिल होने के लिए प्रवीण आमरे, सनथ जयसूर्या, तिलकरत्‍ने दिलशान, आरपी सिंह आने अपनी सहमति दे दी हैं जो अंततः ब्रांड बीसीएल लार्जर स्ट्रांगर और दूरदर्शी बना देंगे। लीग के आयोजन के लिए फरवरी महीना में अपेक्षित है ”। प्रो नीरज राठौर ,बीसीए के जीएम(एडमिन) ने बीसीएल में क्रिकेट को बढ़ावा देने में बीसीए की भूमिका को स्पष्ट किया और एलीट स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के साथ-साथ इसे लागू करने की योजना भी बनाई। हम सभी प्रेस और मीडिया बिरादरी से समर्थन के लिए अनुरोध करेंगे कि हमें एक मंच के रूप में विकसित करने में मदद करें और राष्ट्रीय टीम के लिए फीडर बनें क्योंकि बिहार 1935 से सबसे पुराना एसोसिएशन है।

रिपोर्ट – स्वेता मेहता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0