औरंगाबाद जिला पदाधिकारी ने बिहार में होने वाली 1 फरवरी से इंटरमीडिएट परीक्षा केंद्र का किया निरीक्षण दिए कहा कदाचार मुक्त होगा परीक्षा

Aurangabad District Officer inspected the Intermediate Examination Center in Bihar from February 1 and said that the examination will be malpractice free.

औरंगाबाद से धीरेन्द्र पाण्डेय

औरंगाबाद-ज़िला पदाधिकारी सह मुख्य ज़िला परीक्षा नियंत्रक श्री सौरभ जोरवाल द्वारा बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा 01 फरवरी से आयोजित होने वाली इंटरमीडिएट की परीक्षा के कदाचार मुक्त एवं स्वच्छ परीक्षा संचालन हेतु ज़िला निबंधन सह परामर्श केन्द्र, औरंगाबाद में सभी केंद्राधीक्षक, स्टेटिक पदाधिकारी, ज़ोनल पदाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं ज़िला स्तरीय पदाधिकारियों के साथ ब्रीफिंग की गई।

गौरतलब है कि इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा 1 फरवरी से 13 फरवरी तक आयोजित की जानी है। यह परीक्षा दो पालियों में संपन्न कराया जाएगा। परीक्षा का समय प्रथम पाली में 9:30 बजे पूर्वाह्न से 12:45 बजे अपराह्न तक एवं द्वितीय पाली 1:45 बजे अपराह्न से 5 बजे अपराह्न तक होगा।

औरंगाबाद जिले में परीक्षा के लिए कुल 45 केन्द्र बनाए गए हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी परीक्षार्थी परीक्षा प्रारंभ होने के 10 मिनट पूर्व ही परीक्षा केंद्र में प्रवेश करना सुनिश्चित करेंगे। परीक्षा प्रारंभ होने के बाद किसी भी परिस्थिति में परीक्षार्थियों को परीक्षा में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। परीक्षा समाप्त होने के पहले किसी भी परीक्षार्थी को बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी। सभी परीक्षार्थी 9:20 तक अपने अपने परीक्षा केंद्र में प्रवेश करना सुनिश्चित करेंगे।

उन्होंने कहा कि परीक्षा के दौरान सरकार द्वारा जारी covid 19 के मानदंडों का पालन किया जाएगा। सभी केंद्रो पर सैनिटाइजर की व्यवस्था की जानी है एवं सामाजिक दूरी का पालन किया जाना है तथा परीक्षार्थियों को मास्क पहनकर परीक्षा में शामिल होना है।

परीक्षा के कदाचार मुक्त संचालन एवं परीक्षा केंद्रों पर विधि व्यवस्था बनाए रखने के लिए कुल 90 स्टेटिक दंडाधिकारी प्रतिनियुक्त किए गए हैं। साथ ही कुल 17 गस्ति दल दंडाधिकारियों को प्रतिनियुक्त किया गया है। इसके अतिरिक्त पुलिस स्टेटिक पदाधिकारी एवं पुलिस बल की भी प्रतिनियुक्ति की गई है। साथ ही प्रत्येक 2-3 गश्ती दल दंडाधिकारी पर 01 उड़नदस्ता दल का गठन किया गया है।

बैठक में सभी केंद्राधीक्षकों को परीक्षा केंद्रो पर पर्याप्त रोशनी को व्यवस्था, पानी एवं शौचालय की व्यवस्था कराने का निर्देश दिया गया। बताया गया कि परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र पर जूता एवं मोजा पहन कर आना वर्जित रहेगा। डीएम ने बताया कि सभी परीक्षा केंद्रों पर प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी, वीक्षक एवं अन्य पदाधिकारी पूर्वाह् 8 बजे तक अनिवार्य रूप से उपस्थित रहना सुनिश्चित करेंगे।

जिलाधिकारी ने सभी केंद्राधीक्षकों को निर्देश दिया कि परीक्षा केंद्रो पर परीक्षार्थियों के प्रवेश के समय मुख्य द्वार पर ही फ्रिस्किंग की व्यवस्था अनिवार्य रूप से करेंगे। साथ ही महिला परीक्षार्थियों के फ्रिस्किग की व्यवस्था कपड़े से घेरकर अस्थाई घेरा तैयार कर किया जाएगा। उन्होंने निर्देश दिया कि केंद्राधीक्षक को छोड़कर किसी भी परीक्षा कर्मी के पास मोबाइल फोन नहीं रहेगा।

परीक्षा केंद्र पर स्मार्ट/इलेक्ट्रॉनिक वॉच को ले जाना वर्जित रहेगा परन्तु सामान्य घड़ी प्रतिबंधित नहीं रहेगी। सभी केंद्राधीक्षक केंद्र के सभी कमरों में दीवार घड़ी की व्यवस्था करेंगे।

डीएम ने कहा कि सभी परीक्षा केंद्रो के महत्वपूर्ण स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। प्रत्येक 25 परीक्षार्थियों पर 01 वीक्षक की प्रतिनियुक्ति की जाएगी। प्रत्येक बेंच पर अधिकतम 02 ही परीक्षार्थी बैठेंगे इसके लिए सभी परीक्षा केंद्रों पर पर्याप्त बेंच डेस्क उपलब्ध कराया जाएगा।

उन्होंने सभी पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी परीक्षा कर्मी अपना फोटोयुक्त आई कार्ड लेकर ही ड्यूटी करेंगे। परीक्षा के सफल संचालन के लिए ज़िला गोपनीय शाखा, औरंगाबाद में ज़िला नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। जिसके प्रभार में वरीय उप समाहर्ता, अमित कुमार सिंह रहेंगे। ज़िला नियंत्रण कक्ष का दूरभाष संख्या 06186-223168 है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0