सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस फाॅर फ्रूट्स, वैशाली में सेब का क्षेत्र विस्तार पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन

Vaishali : आज सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस फाॅर फ्रूट्स, देसरी, वैशाली के प्रशिक्षण कक्ष में विशेष उद्यानिक फसल योेेजनान्तर्गत सेब का क्षेत्र विस्तार पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस प्रशिक्षण का शुभारंभ उद्यान निदेशक नन्द किशोर के द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम में माननीय कृषि मंत्री श्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह तथा सचिव, कृषि विभाग डाॅ॰ एन॰ सरवण कुमार जी वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में वैशाली, समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, बेगूसराय, भागलपुर एवं औरंगाबाद के प्रगतिशील कृषकों के साथ बिहार में सेब की खेती विषय पर चर्चा की गई। गुजरात के राष्ट्रीय नवप्रवर्तन से आये डाॅ॰ पार्धा देव द्वारा किसानों को सेब की हरमन-99 किस्म के बारे में जानकारी दी गई। कृषि मंत्री तथा सचिव, कृषि द्वारा की गई पृच्छा के आलोक में पार्धा देव जी के द्वारा जानकारी दी गयी की हरमन-99 प्रजाति सेब की खेती पूरे बिहार में की जा सकती है क्योंकि यह 45-48 डिग्री सेन्टीग्रेट तक तापमान सहन कर सकता है। सेब की खेती के लिए विभिन्न जरूरतांे तथा इसके कटाई-छटाई के बारे में कृषकों के साथ जानकारी साझा की गई।

मंत्री के द्वारा वैशाली जिला के पातेपुर ब्लाॅक के प्रगतिशील किसान संजय ने भी अपने अनुभवों के बारे में जानकारी प्राप्त की। संजय पिछले 3-4 वर्षों से सेब की खेती करतेे आ रहे हैं। उन्होंने अपना अनुभव साझा करते हुये कहा कि सेब के प्रत्येक पेड़ से 15-20 किलो प्राप्ति होती है। सेब का स्वाद अन्य राज्यों के सेब के जैसा ही होता है, जिससे उसे बाजार में बेचने में कोई कठिनाई नहीं होती है। इस प्रकार सेब को बाजार में बेचने पर अच्छा दाम मिलता है। मंत्री तथा कृषि सचिव द्वारा निदेश दिया गया कि इस योजना के अंतर्गत पाॅयलेट बेसिस पर चुने गये 7 जिलों के अलावा अन्य प्रक्षेत्रों के कृषि विज्ञान केन्द्र में वैज्ञानिकों की देख-रेख में सेब की खेती करवाया जाये। उन्होंने बताया की सेब की खेती यदि अच्छे तरीके से की जाए तो कृषकों की आमदनी कई गुणा बढ़ सकती है। राकेश कुमार, उप निदेशक उद्यान द्वारा किसानों को उद्यान निदेशालय की योजनाओं के बारे में जानकारी दी गई तथा नीतेश कुमार राय, उप निदेशक, उद्यान ने इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन करते हुए धन्यवाद ज्ञापन किया। इस कार्यक्रम में डाॅ॰ अभय कुमार गौरव, परियोजना पदाधिकारी, सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस चंडी नालन्दा, ओम प्रकाश मिश्रा, सहायक निदेशक, उद्यान, वैशाली, शंभू प्रसाद, सहायक निदेशक उद्यान, मुजफ्फरपुर, विनोद कुमार आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0