मुख्य शूटर गिरफ्तार,दीपक मेहता को मारने के लिए 7 लाख में ली थी सुपारी

Patna : बिहार में एक और ‘नीतीश’ का नाम सामने आया है। लेकिन इस नीतीश का काम ऐसा है, जिसे जानकर बड़े से बड़े लोग भी डरने लगेंगे। इसे फिलहाल बिहार का सबसे बड़ा शार्प शूटर कहेंगे तो गलत नहीं होगा। कारण है कि इस किलर ने पिछले एक माह में चार हत्याएं की। इनमें तीन हत्यां हाई प्रोफाइल थी। इस सुपारी किलर को पुलिस ने दानापुर के नासरीगंज स्थित फक्कड़ महतो घाट से शुक्रवार की रात गिरफ्तार किया।

मसौढ़ी के भगवानगंज के अनाैली गांव के रहने वाले सुपारी किलर नीतीश ने पूछताछ में इस साल 28 मार्च से 26 अप्रैल के बीच सुपारी लेकर चार लाेगाें की हत्या करने का जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस ने उसके पास से एक पिस्टल और दो जिंदा कारतूस बरामद किया।

दानापुर नगर परिषद उपाध्यक्ष की हत्या

पूछताछ में नीतीश ने बताया कि 28 मार्च काे उसने दानापुर नगर परिषद के उपाध्यक्ष व जदयू नेता दीपक मेहता की अन्य शूटरों के साथ घर के पास ही हत्या कर दी थी। इसके बाद 22 अप्रैल को अपने की गांव में शादी समारोह के दौररान बलवंत दुबे की भी हत्या की थी।

दीपक मेहता की हत्या के लिए सात लाख की सुपारी

नीतीश ने बताया कि जुलाई 2021 में जेल से छूटने के बाद मसौढ़ी गोलीकांड में फरार चल रहा था। भागकर मौसेरे भाई उमेश के दीघा के शिवनगर स्थित लॉज में ठहरे थे। दीपक और दीघा के उमेश कुमार उर्फ राय के बीच जमीन का विवाद चल रहा था। उमेश तीन-चार माह से दीपक की हत्या करने काे कह रहे थे पर सुपारी नहीं मिली थी। 7 लाख सुपारी मिलने के बाद मसौढ़ी के शूटर अफसर मलिक व रजनीश के साथ 28 मार्च की रात दीपक के घर के पास पहुंचे थे। उमेश एक चेला के साथ लेकर दीपक के घर आया जहां पहले से मौजूद दो-तीन मास्क पहने लड़कों ने दीपक के घर और गाड़ी की पहचान करा दी। हम वहीं इंतजार कर रहे थे पर घर से निकलकर दीपक शादी में चले गए। जब दीपक लौटकर आए तो घर के पास ही दनादन गाेली मारकर हत्या कर दी। फिर तीनों काठमांडू भाग गए।

मसौढ़ी और जहानाबाद मर्डर में रही भूमिका

26 अप्रैल को अरवल से भाजपा के पूर्व विधायक चितरंजन कुमार के चाचा अभिराम शर्मा की जहानाबाद और अभिराम के भतीजे दुकानदार दिनेश शर्मा की मसौढ़ी में हत्या कर दी। नीतीश के गिरफ्तार होने के बाद जहानाबाद की पुलिस अभिराम और दिनेश की हत्या के मामले में दानापुर में पूछताछ करने में जुटी है।

दो लाख मिली थी सुपारी

पांडव सेना के सरगना संजय सिंह ने अभिराम और दिनेश की हत्या के लिए 2 लाख की सुपारी दे दी। सुपारी लेने के बाद टेनी बिगहा स्थित एक लॉज में अपने रिश्तेदार के यहां रहने लगे। 26 अप्रैल को संजय ने तीन-चार अन्य को मेरे साथ कर दिया। फिर सबने पहले अभिराम की हत्या की और फिर दिनेश को मार डाला।

गांव में शादी में की एक हत्या

नीतीश ने खुलासा किया कि दीपक की हत्या करने के बाद 10 दिन तक नेपाल में रहकर अय्याशी करने के बाद गांव लौटे। 22 अप्रैल को गांव में शादी-समाराेह में वीडियो बनाने के दाैरान बलवंत दुबे से विवाद हो गया और उसे गोली मार दी जिसकी बाद में माैत हाे गई। दुबे की मौ के बाद हत्या का केस दर्ज हो गया।

अचूक है निशाना

नीतीश के बारे में बताया जाता है कि उसका निशाना अचूक है। वह पेशेवर अपराधी है। वह पैसे के लिए किसी काे भी मार सकता है। नीतीश पर मसाैढ़ी और भगवानगंज थाने में पहले से ही हत्या के प्रयास, आर्म्स एक्ट, लूट समेत संगीन अपराध के चार केस दर्ज हैं।

जल्द होगी सभी गिरफ्तारी

पुलिस इस मामले में मनोज राय, पिंटू मियां राज कुमार सहनी उर्फ बालक सहनी व राजू काे गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है जबकि उमेश के अलावा राजू का भाई कुख्यात रवि गाेप, शूटर अफसर, रजनीश समेत आधा दर्जन से ज्यादा लाेग फरार चल रहे हैं। नीतीश की गिरफ्तारी फरार चल रहे उमेश के माेबाइल के सीडीअार से हुई। दानापुर एएसपी ने बताया कि फरार अपराधियों की गिरफ्तारी जल्द होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0