अवैध पत्रकार सावधान! आरटीआई ने मांगी डीएम से पत्रकारों की सूची

सुपौल :- जिले के त्रिवेणीगंज में इन दिनों बैंगन के तरह पत्रकार फेल गये है, जिसको लेकर आम लोगों के साथ-साथ पुलिस प्रशासन को भी फजीहत झेलनी पड़ती है, कुछ ऐसे भी पत्रकार हैं, जो लोगों को ब्यूरो चीफ भी बताते हैं और आरटीआई लगाकर अवैध वसूली भी करते हैं, जिसको लेकर आम लोगों परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल जिन पत्रकारों को पत्रकारिता का भी नहीं पता है, वे लोग वाइक पर प्रेस लिखाकर अपने आप को बड़ा पत्रकार कहते हुए शहर में सरेआम बिना किसी रोक-टोक के घूम रहे हैं। ये लोग अपनी गाड़ियों पर बड़े-बड़े शब्दों में प्रेस लिखाकर इस शब्द का भी दुरुपयोग कर रहे हैं। ऐसा लग रहा है, कि उनके अंदर में पुलिस प्रशासन कार्य करते हैं, इन तथा कथित पत्रकारों से तरस आकर जिला अधिकारी सुपौल से त्रिवेणीगंज निवासी रामदेव यादव ने आरटीआई तहत मांगी गई रिपोर्ट में त्रिवेणीगंज अनुमंडल मे प्रभात खबर, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर, में कुल कितने पत्रकार है, इतना ही नहीं रामदेव यादव पत्रकारों का शैक्षणिक योग्यता, प्रशिक्षण योग्यता, डिग्री डिप्लोमा, पत्रकारिता प्रमाण पत्रों की छाया प्रति अभिप्रमाणित कर उपलब्ध कराये जाने की मांग की है, जिसको देखते हुए जिला अधिकारी सुपौल ने जिला जन संम्पर्क कार्यालय सुपौल के द्वारा लेटर जारी कर प्रभात खबर, दैनिक भास्कर, दैनिक जागरण के ब्यूरो सुपौल से मांगी गई रिपोर्ट के अनुसार सभी प्रमाण पत्र।अभीप्रमाणित कर 3 दिनों के अंदर कार्यालय में जमा करने की आदेश दिए हैं, जिसको लेकर पत्रकार बताने वाले लोगों को खलबली मच गई है, वहीं हैरानी की बात यह है कि पुलिस की ओर से भी वाहनों पर प्रेस शब्द लिखा कर घूमने वाले लोगों को रोक कर इन के वाहनों की जांच तक नहीं की जा रही है। इन सभी का पत्रकारिता की आड़ में कालाबाजारी करने का इतिहास रहा जबकि कई अखबार और पोर्टल में खबर छापी गई थी अब तो देखने वाली बात होगी जिला जन संपर्क कार्यालय सुपौल के द्वारा जबाब मिलने के बाद ही पता चल पाएगा कुल कितने त्रिवेणीगंज में पत्रकार है l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0