किसान संघर्ष समन्वय समिति ने कैंडल मार्च व मौन जुलूस निकालकर किया श्रद्धांजलि सभा

मो. साजिद की रिपोर्ट

गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने का किया मांग

खगड़िया: अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के देशव्यापी आह्वान पर लखीमपुर खीरी में 4 किसान एवं एक पत्रकार रमन कश्यप को गाड़ी से रौंदकर हत्या करने के विरोध में तथा श्रद्धांजलि स्वरूप रेलवे स्टेशन परिसर से राजेंद्र चौक तक कैंडल मार्च निकाला गया। साथ ही जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों द्वारा भागलपुर के शिक्षक वीरेंद्र पासवान सहित 25 लोगों को चिन्हित कर हत्या करने के विरोध में एवं श्रद्धांजलि स्वरूप मोमबत्ती जलाकर एवं 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। श्रद्धांजलि सभा की अध्यक्षता भाकपा माले के जिला संयोजक किरण देव यादव ने किया।
श्रद्धांजलि सभा व कैंडल मार्च में समन्वय समिति के संयोजक प्रभा शंकर सिंह, खेत मजदूर किसान सभा के संयोजक धर्मेंद्र कुमार, असंगठित निर्माण मजदूर यूनियन के सचिव सुनील कुमार , एस सी यू सी आई के जितेंद्र कुमार, अधिवक्ता डॉ कमल किशोर यादव, राकांपा के जिला अध्यक्ष संजय सिंह , आजपा के अध्यक्ष उमेश ठाकुर, माकपा नेता अनिल वर्मा, शहीदे आजम भगत सिंह छात्र नौजवान सभा के जिला संयोजक आनंद राज , उपेंद्र कुमार आदि ने भाग लिया।
नेताओं ने कहा कि लखीमपुर खीरी कांड का दोषी आशीष मिश्रा एवं मंत्री अजय मिश्रा को बचाने में यूपी सरकार एवं प्रशासन प्रयासरत है। कई अलोकतांत्रिक केस में दोषी सरकार मंत्री एवं सत्ता पक्षीय सांसद विधायक को क्लीन चिट देने का सारे हथकंडा अपनाई जाती है , उसी प्रकार लखीमपुर खीरी कांड का भी यही हश्र करने का कुत्सित प्रयास किया जा रहा है। इस मामले को दबाने हेतु जम्मू कश्मीर में पुलवामा कांड के तरह साजिशन तथाकथित आतंकी हमला किया गया है, जिसमें भागलपुर के शिक्षक वीरेंद्र पासवान की भी हत्या की गई , उनका पार्थिव शरीर भी लाने में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लापरवाही बरती , जो घोर निंदनीय है। नेताओं ने गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने एवं सभी मित्रों को 50 लाख मुआवजा देने की मांग किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0