कोरोना रूपी महामारी के काल के गाल में समा गए अरुण बाबू

कोरोना रूपी महामारी के काल के गाल में समा गए अरुण बाबू

Samastipur : समस्तीपुर जिला रोसड़ा अनुमंडल शिवाजी नगर प्रखंड के ग्राम पंचायत राज परसा निवासी पूर्व मंत्री स्वर्गीय गजेंद्र प्रसाद सिंह के चचेरे भाई स्वर्गीय लक्ष्मी मंडल के पुत्र अरुण बाबू के दूसरी पुत्री निभा कुमारी ग्राम गोरा निवासी सुरेंद्र नारायण सिंह की पत्नी जिनका ध्यान एक महीना पूर्व कानपुर में इलाज के दौरान हो गया था उन्हीं के मेडिकल डेथ सर्टिफिकेट बनवाने के लिए दमाद सुरेंद्र नारायण एवं अरुण बाबू कानपुर गए थे वहां से आने के बाद तबीयत और स्वस्थ होने लगा जांच के क्रम में पता चला वे कोरोना पॉजिटिव है फिर स्थानीय डॉक्टर से इलाज करा रहे थे पांच रोज के बाद उन्हें अधिक परेशानी होने लगा परिवार में एकमात्र संतान दिगंबर कुमार जो अपने पिता को लेकर दरभंगा मेडिकल गए वहां भर्ती हुआ इलाज चल ही रहा था कि उन्होंने अपनी जिंदगी की आखिरी सांस ली उनके निधन से परिवार में अपूरणीय क्षति तो हुई पूरे ग्रामीणों में शोक की लहर है जानने वाले सारे दुखी है अरुण बाबू दिखने में जितने शांत सुशील एवं सौम्य स्वभाव के थे उतने ही वे दिल के भी पवित्र थे कभी किसी को अनादर नहीं किया । उनकी याद खलती है अब तो वे यादों में ही रहेंगे ,अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ कर चले गए। उनमें पत्नी,पुत्र दिगंबर कुमार सिंह, पुत्र वधू 2 पौत्र पुत्री प्रभा कुमारी, नीतू कुमारी,दमाद राम शंकर सिंह ,सुरेंद्र नारायण सिंह,पुत्री नीतू कुमारी शोकाकुल परिवार में लोजपा नेत्री डॉ उर्मिला सिन्हा सिन्हा सुरेंद्र नारायण सिंह, सभी बहन बहनोई भांजा भांजी राजेंद्र नारायण सिंह गंगा प्रसाद मंडल जितेंद्र कुमार मणिकांत सिंह विकेश कुमार सिंह संतोष कुमार विद्यासागर सिंह मुखिया दीपा कुमारी रवीश कुमार गुंजन कुमार गुल गुल कुमार अशोक कुमार सिंह बमबम ठाकुर ललित ठाकुर राम नारायण सिंह एवं समस्त ग्रामीण मौजूद थे।

रिपोर्ट – पलटन साहनी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0